निम्न रक्तचाप – Low Blood Pressure :

निम्न रक्तचाप तब होता है जब धमनियों से बहने वाले रक्त का दबाव असामान्य रूप से कम होता है। इस स्थिति को ‘लो ब्लड प्रेशर’, ‘हाइपोटेंशन’ या ‘लो बीपी’ के नाम से भी जाना जाता है। लो बीपी की समस्या हाई ब्लड प्रेशर जितनी ही गंभीर हो सकती है इसलिए इसे नजरअंदाज न करें। चक्कर आना और बेहोशी ये दोनों लो ब्लड प्रेशर के प्रमुख लक्षण हैं।

निम्न रक्तचाप किसे कहते हैं?

सामान्य रक्तचाप का स्तर 120/80 mm Hg है और यदि रक्तचाप 90/60 mm Hg या उससे कम है तो निम्न रक्तचाप की समस्या हो सकती है। जब रक्तचाप कम हो जाता है, तो मस्तिष्क और अन्य अंगों को रक्त की उचित आपूर्ति नहीं होती है, जिससे चक्कर आना, कमजोरी और सांस लेने में कठिनाई होती है।

लो ब्लड प्रेशर के कारण (Low Blood Pressure Causes) :

असामान्य रूप से निम्न रक्तचाप के लिए कई कारण जिम्मेदार होते हैं।

  • उच्च रक्तचाप के इलाज पर लिए जाने वाली दवाएं निम्न रक्तचाप का कारण बन सकती हैं।
  • अत्यधिक उल्टी, दस्त, या अत्यधिक पसीने से शरीर में पानी की कमी होकर डिहायड्रेशन होने के कारण रक्तचाप गिर सकता है।
  • अत्यधिक रक्तस्राव के कारण रक्तचाप गिर सकता है।
  • गंभीर चोट लगने से या गंभीर रूप से जलने के कारण रक्तचाप असामान्य रूप से कम हो जाता है।
  • हृदय रोग जैसे दिल का दौरा, हृदय गति रुकना इनके कारण निम्न रक्तचाप की स्थिति बन सकती है।
  • तंत्रिका तंत्र के विकार जैसे, डायबिटिक न्यूरोपैथी, स्ट्रोक इससे निम्न रक्तचाप का कारण बन सकता हैं।
  • अस्थमा, निमोनिया जैसे विकारों से रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा कम होने से रक्तचाप गिर सकता है।
  • मूत्रवर्धक diuretics दवाएं निम्न रक्तचाप का कारण बन सकती हैं।
  • हार्मोनल असंतुलन निम्न रक्तचाप का कारण बन सकता है।
  • किडनी विकारों के कारण,
  • डेंगू जैसे तीव्र संक्रमण के कारण,
  • थायरॉयड की बीमारी के कारण भी रक्तचाप गिर सकता है।
  • शारीरिक कमजोरी, कुपोषण, उपवास, भोजन और पानी की कमी, मानसिक तनाव, भय, शोक, मानसिक आघात इन कारणों से भी रक्तचाप घट सकता है।

निम्न रक्तचाप के लक्षण (Low Blood pressure symptoms) :

  • चक्कर आना,
  • बेहोश होना,
  • आँखों में अंधेरा छा जाना,
  • धुंधली दृष्टि,
  • बेचैनी या थकान महसूस करना,
  • अत्यधिक पसीना आना,
  • ठण्ड लगकर अंग कांपना,
  • जी मिचलाना,
  • जल्दी जल्दी सांस लेना,
  • असामान्य दिल की धड़कन होना, ये लक्षण निम्न रक्तचाप में दिखाई देते है।

लो ब्लड प्रेशर के नुकसान (Low BP Side effects) :

निम्न रक्तचाप की स्थिति, मस्तिष्क, हृदय और गुर्दे जैसे महत्वपूर्ण अंगों को अपर्याप्त रक्त आपूर्ति का कारण बन सकती है। इसलिए, यदि रक्तचाप बहुत अधिक गिर जाता है, तो पक्षाघात, दिल का दौरा, गुर्दे की विफलता का खतरा होता है। कभी-कभी रोगी की मृत्यु भी हो सकती है।

लो ब्लड प्रेशर का इलाज (Low Blood Pressure Treatment) :

निम्न रक्तचाप का उपचार उसके कारण पर निर्भर करते है। जैसे जब निम्न रक्तचाप किसी दवा के कारण होता है, तो आमतौर पर आपके डॉक्टर, उस दवा को बदलकर दे सकते हैं। इससे दवा के कारण होनेवाली निम्न रक्तचाप की समस्या दूर होती है।

ब्लड प्रेशर कम होंने पर यह करें उपाय –

  • आंखों के सामने अचानक अंधेरा छा जाने पर चक्कर आने जैसा महसूस होने पर तुरंत पीठ के बल लेट जाएं।
  • एक चुटकी नमक और चीनी के साथ पानी पिएं।
  • आप पानी में ओआरएस पाउडर मिलाकर भी पी सकते हैं।
  • थोड़ा बेहतर महसूस करने के बाद भी समस्या को नज़रअंदाज़ न करें. डॉक्टर के पास जाएं और उचित निदान और उपचार प्राप्त करें।

लो ब्लड प्रेशर से बचाव (Prevention) :

  • डॉक्टर से सलाह लेकर आहार में पर्याप्त मात्रा में नमक का प्रयोग करें।
  • पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। इससे शरीर में रक्त बढ़ता है साथ ही निर्जलीकरण को रोकने में मदद होती है।
  • संतुलित आहार लेना चाहिए।
  • अल्कोहल से दूर रहें। क्योंकि शराब पीने से निर्जलीकरण हो सकता है।
  • थायराइड की जांच कराएं।
  • नियमित अपना ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर चेक करें।
2 Sources

In this article information about Low Blood Pressure Symptoms, Causes, Side effects and Treatments in Hindi language.